HRTC BOD बैठकः ऑन ड्यूटी मौत पर आश्रितों को 3 माह में नौकरी का प्रावधान, छठा वेतनमान भी लागू

पहले दुर्घटना का शिकार होने वाले चालक-परिचालक के पारिवारिक सदस्यों को करुणामूलक आधार पर नौकरी के लिए इंतजार करना पड़ता था।

HRTC BOD बैठकः ऑन ड्यूटी मौत पर आश्रितों को 3 माह में नौकरी का प्रावधान, छठा वेतनमान भी लागू
एचआरटीसी के निदेशक मंडल (बीओडी) की बैठक।

धर्मशालाः एचआरटीसी के निदेशक मंडल यानि की बीओडी की बैठक आज आयोजित की गई। बैठक की अध्यक्षता परिवहन मंत्री बिक्रम ठाकुर ने की। बताया गया कि हिमाचल पथ परिवहन निगम के 13,000 कर्मचारियों को छठे वेतन आयोग के तहत सभी लाभ मिलेंगे। तीन महीने के भीतर इन्हें संशोधित वेतनमान और अन्य वित्तीय लाभ मिलेंगे। 

गौर रहे कि किस कर्मचारी को क्या लाभ होगा, ये संशोधित वेतन निर्धारण होने के बाद ही पता चल पाएगा। ड्यूटी के दौरान सड़क हादसे में मौत पर चालक-परिचालक के पारिवारिक सदस्यों के लिए भी बैठक में राहत का फैसला लिया गया है। 

पहले दुर्घटना का शिकार होने वाले चालक-परिचालक के पारिवारिक सदस्यों को करुणामूलक आधार पर नौकरी के लिए इंतजार करना पड़ता था। लेकिन, अब दुर्घटना का शिकार होने वाले चालक-परिचालक के परिवार के सदस्यों को तीन माह के अंदर नौकरी का प्रावधान कर दिया गया है। 

शिमला सचिवालय के कर्मचारियों को भी पुलिस कर्मचारियों की तर्ज पर निगम की बसों में निशुल्क यात्रा सुविधा मिलेगी। निगम में कार्यरत 983 पीस मील वर्करों को अनुबंध पर लाने की नीति भी बना ली है। इसमें से 754 को अनुबंध पर लाया गया है। शेष को सितंबर 2022 तक अनुबंध पर लाया जाएगा। छठे वेतनमान का लाभ देने पर निगम पर हर माह 12.50 करोड़ रुपये का अतिरिक्त बोझ पड़ेगा।

बता दें कि एचआरटीसी से सेवानिवृत्त कर्मचारियों को एरियर के भुगतान के लिए विभाग 110 करोड़ रुपये का अतिरिक्त कर्ज लेगा। इसके तहत मार्च 2022 तक सेवानिवृत्त कर्मचारियों के एरियर का लाभ उनके खातों में पहुंचा दिया जाएगा। 

इसके अलावा निगम के बेड़े में शामिल नई हिमधारा बसों को 20 फीसदी किराया वृद्धि के साथ चलाने का फैसला लिया है। डेढ़ माह के भीतर 360 और नई बसें आएंगी। इसके लिए शीघ्र ही टेंडर होंगे। अगस्त में शिमला में 20 और धर्मशाला में 15 नई इलेक्ट्रिक बसें चलाई जाएंगी।