चलते बने मंत्री जी! ऐसे सवाल करने लगे हिमाचल के पत्रकार तो हवा-हवाई भाषण नहीं देंगे नेता

चंबा में केंद्रीय सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री डॉ वीरेंद्र कुमार हवा-हवाई बातें कर रहे थे। सवाल उनसे चंबा जिला के पूछे जा रहे थे, लेकिन वो देश-विदेश का गुणगान करने लगे।

चलते बने मंत्री जी! ऐसे सवाल करने लगे हिमाचल के पत्रकार तो हवा-हवाई भाषण नहीं देंगे नेता
पत्रकारवार्ता छोड़कर जाते मंत्री जी।

चंबाः आज की तारीख में जब कोई मंत्री, विधायक या मुख्यमंत्री पत्रकारवार्ता करता है तो पत्रकार कई बार कठिन सवाल करते हैं। लेकिन सामने बैठा व्यक्ति टालमटोल कर उसका सही से उत्तर नहीं देता है। जवाब में पत्रकार भी सवाल करना भूल जाते हैं, लेकिन जिला चंबा में कल पत्रकारिता के मध्यनजर एक सुखद दृश्य देखने को मिला।

चंबा में केंद्रीय सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री डॉ वीरेंद्र कुमार हवा-हवाई बातें कर रहे थे। सवाल उनसे चंबा जिला के पूछे जा रहे थे, लेकिन वो देश-विदेश का गुणगान करने लगे। पत्रकारों ने उन्हें फिर से सवाल समझाया लेकिन वो सवाल सुनने को राजी नहीं हुए। 

हमें नहीं मालूम कि वो पत्रकार कौन रहा होंगा, जिसने बार-बार अपना सवाल दोहराया लेकिन उनका ये सवाल करना वाकई में काबिले तारीफ है। अक्सर देखा गया है कि जब भी बेरोजगारी, महंगाई, डॉक्टरों के रिक्त पद, अध्यापकों के रिक्त पदों पर सत्ता से सवाल पूछे जाते हैं तो सत्ता के नुमाइंदे मोदी जी का गुणगान करने लगते हैं। 

सवाल कुछ पूछो, जवाब कुछ और मिलता है। खैर, खबर पर आते हैं। चंबा के बचत भवन में केंद्रीय मंत्री ने जिले के शहरी और ग्रामीण क्षेत्र से आए उन लोगों से बातचीत की जिन्हें मोदी सरकार की योजनाओं का लाभ मिला है। इसके बाद उन्होंने करीब 2:00 बजे एक पत्रकार वार्ता की। 

मंत्री जी ने सबसे पहले केंद्र सरकार की योजनाओं का बखान किया। केंद्र सरकार के 8 साल का कार्यकाल पूरा होने पर कई प्रशंसा भरी बातें कहीं। लेकिन जब उनसे पत्रकारों ने चंबा मेडिकल कॉलेज में अनियमितताओं के बारे में पूछा गया, स्वास्थ्य व्यवस्था पर पूछा गया तो जवाब नहीं दे सके। 

मंत्री जी नाराज होकर चलते बने। कहा कि मैं इस बारे में मुख्यमंत्री से बात करूंगा। गौर रहे कि हिमाचल प्रदेश में चंबा,सिरमौर जैसे कुछ जिले पिछड़े जिलों में आते हैं। यहां की भौगोलिक स्थिति बेहद कठिन है। कई जगह पर आज भी सड़के नहीं पहुंच पाई है। अस्पतालों में डॉक्टर नहीं है। 

न्यूज़-18 की एक खबर तो यहां तक बताती है की वर्तमान समय में जिला चंबा में एक भी स्त्री रोग विशेषज्ञ तैनात नहीं है। जबकि मेडिकल कॉलेज चंबा को छोड़कर जिले के किसी भी सरकारी चिकित्सा संस्थान में अल्ट्रासाउंड तक की सुविधा नहीं है। ऐसे में सवाल करना बेहद जरूरी हो जाता है।