देखते-देखते राख हो गईं 15 दुकानें और 4 आशियाने, बहुत देर से पहुंची फायर ब्रिगेड

पीड़ित परिवारों और स्थानीय लोगों में दमकल विभाग की लापरवाही के प्रति रोष है। जब तक ठियोग से पहला दमकल वाहन पहुंचा, तब तक करीब पांच दुकानें जलकर राख हो चुकी थी। एक दमकल वाहन से काम नहीं होने वाला था, कुछ ही देर में पानी खत्म हो गया था।

देखते-देखते राख हो गईं 15 दुकानें और 4 आशियाने, बहुत देर से पहुंची फायर ब्रिगेड
चियोग बाजार में भीषण आग।

शिमला: जिला शिमला के चियोग बाजार में शनिवार देर रात आग की लपटें ऐसी भड़की कि एक साथ 15 दुकानों और चार घरों को राख कर दिया। पीड़ित परिवार अपनी आंखों के सामने जीवन भर की कमाई को राख होते देखने को मजबूर थे। 

प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि आग बुझाने के लिए दमकल वाहन को आने में बहुत देर हो गई। मौके पर मौजूद लोगों का कहना था कि ठियोग से पहला दमकल वाहन करीब दो घंटे देरी से घटनास्थल पर पहुंचा। जबकि ठियोग से चियोग बाजार की दूरी महज 12 किलोमीटर है और बाजार एनएच-5 शिमला-किन्नौर पर ही स्थित है।

रात 1:00 बजे तक कड़ी मशक्कत के बाद बुझी आग
ऐसे में पीड़ित परिवारों और स्थानीय लोगों में दमकल विभाग की लापरवाही के प्रति रोष है। जब तक ठियोग से पहला दमकल वाहन पहुंचा, तब तक करीब पांच दुकानें जलकर राख हो चुकी थी। एक दमकल वाहन से काम नहीं होने वाला था, कुछ ही देर में पानी खत्म हो गया था। हालांकि कुछ ही देर बाद शिमला से दूसरी गाड़ी मौके पर पहुंची और फिर जाकर आग की भयंकर लपटों पर काबू पाने के लिए जद्दोजहद शुरू हुई। इसके बाद तीन और गाड़ी चियोग बाजार से मौके पर पहुंची और आग बुझाने के लिए कड़ी मशक्कत रात 1:00 बजे तक चलती रही।

भीड़ ने भी की आग काबू करने की कोशिश
घटना के समय सभी दुकानदार अपनी दुकानें बंद कर जा चुके थे। ऐसे में ज्यादातर लोग अपनी दुकानों से सामान भी नहीं निकाल पाए। स्थानीय लोगों ने आग बुझाने के लिए हाथ-पांव मारे। मौके पर जुटी भीड़ ने आग बुझाने के लिए अपने वाहनों में पानी ढोकर आग बुझाने की कोशिश की, लेकिन चियोग बाजार और आसपास के क्षेत्र में पानी की किल्लत रहती है और ऐसे में कुछ ही देर में लोग आग की लपटों में उनकी संपत्ति राख होता देखने के लिए मजबूर हो गए। घटना की सूचना मिलने पर कुसुम्पटी विधायक अनिरुद्ध सिंह और एसडीएम ठियोग भी मौके पर पहुंचे।

बहुत देर से पहुंची फायर ब्रिगेड 
स्थानीय लोगों का कहना है कि अगर दमकल विभाग की गाड़ियां समय पर पहुंचती तस्वीरें कम भयावह होती। ठियोग में एक दमकल वाहन लंबे समय से खराब पड़ा हुआ है। जबकि ठियोग फायर स्टेशन से नारकंडा, कोटगढ़, छैला, कुमारसेन, फागू और जुब्बल कोटखाई तक आग पर काबू पाने के लिए वाहन भेजे जाते हैं। 

घटनास्थल पर पहुंचे बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष
वहीं बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष और सांसद सुरेश कश्यप भी रविवार सुबह घटनास्थल पहुंचे। उन्होंने स्थानीय लोगों से मुलाकात की और इस दुखद घटना पर गहरा दुख व्यक्त किया। कश्यप ने दुख व्यक्त करते हुए कहा कि ये काफी दुर्भाग्यपूर्ण है कि 15 दुकानें और चार घर जलकर खाक हो गए, यहां दो करोड़ से अधिक के नुकसान का अनुमान लगाया जा रहा है।

सुरेश कश्यप ने प्रशासन से इस घटना में प्रभावित लोगों की ज्यादा से ज्यादा मदद करने का अनुरोध किया।
 उन्होंने प्रशासन, कार्यकर्ताओं और स्थानीय प्रतिनिधियों से अपील की है कि वे प्रभावितों को भोजन, आश्रय और अन्य दैनिक जरूरतों के मामले में मदद के लिए आगे आएं।
 

उन्होंने माना कि फायर टेंडर घटनास्थान पर देर से पहुंचा और वह ठीक से सुसज्जित भी नहीं था। हम निश्चित रूप से इस पूरे मामले पर सख्त जांच शुरू करवाएंगे।कश्यप ने कहा कि वो मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से अनुरोध करेंगे कि चियोग में एक पूर्ण फायर स्टेशन दिया जाए। वर्तमान में यहां एक सब फायर स्टेशन है। हम सरकार और प्रशासन से भी अनुरोध करेंगे कि ऐसी घटनाओं के लिए राहत नियमावली की समीक्षा करें, ताकि प्रभावित लोगों को बड़ी राहत मिल सके।